निर्विक योजना 2022 | NIRVIK Yojana 2022

Rate this post

केंद्र सरकार की निर्विक योजना निर्यातकों के लिए शुरू की गई योजना है। इसके अंतर्गत निर्यातकों को ऋण देने का प्रावधान है। इस ऋण को निर्यात ऋण विकास योजना कहा जायेगा। यह लोन सरकार द्वारा बीमित होगा, यानि ब्याज और मूलधन का 90% इन्शुरन्स किया जायेगा। इसमें ESCG और ESIC शामिल हैं। यह लोन गारण्टी लोन होगा। यदि किसी व्यापारी के पास 80 करोड़ ₹ से कम का बकाया है, तो वैसे निर्यातकों को निर्विक योजना के तहत 60% का लोन गारण्टी दी जायेगी।

योजना का नामनिर्यात ऋण विकास निर्विक योजना
योजना की लॉन्चिंग तिथि14 सितम्बर 2019
योजना का उद्देश्यनिर्यातकों को कम ब्याज पर सुलभता से ऋण उपलब्ध करवाकर निर्यात बढ़ाना।
लाभार्थीभारतीय निर्यातक
लाभनिर्यात बढ़ने के साथ व्यापर संतुलन 

 जून 2019 में व्यापार घटा पिछले छः महीने के उच्चतम स्तर पर पहुँच गया था। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले साल की तुलना में व्यापर घाटे में 120 करोड़ डॉलर की बढोत्तरी देखने को मिली। मई माह में देश में होने वाले उत्पादों का निर्यात केवल 4% बढ़कर 3 हजार करोड़ डॉलर पहुँच पाया था। वही आयात में 4.3% की बढोत्तरी देखने को मिली। इसलिये निर्यात को बढ़ने के लिए प्रधानमंत्री ने निर्यात ऋण विकास योजना का एलान किया।

14 सितम्बर 2019 को उद्योग एवं वाणिज्य मंत्रालय ने भारतीय निर्यात ऋण गारण्टी निगम के माध्यम से निर्विक योजना को लॉन्च किया। नयी निर्यात क्रेडिट इन्शुरन्स स्कीम (ECIS)  के तहत ऋण मूलधन और ब्याज दोनों के बीमा कवर प्रतिशत को वर्तमान औसत के 60% से 90% तक बढ़ाया गया है। निर्विक योजना में प्री और पोस्ट दोनों ही शिपमेंट क्रेडिट शामिल है। इस योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य निर्यातकों के लिए ऋण उपलब्धता और पहुँच को बढ़ाना है और व्यापार को आसान बनाना है।

एक्सपोर्ट गारण्टी कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया बीमा कवर के साथ-साथ बैंकों को अतिरिक्त सुविधा प्रदान करेगा। क्योंकि उधारकर्ता के क्रेडिट एए रेटेड खाते में बढाई जायेगी। बढ़े हुए कवर से यह सुनिश्चित होगा कि निर्यातकों के लिए निर्यात ऋण दर 4% से 8% के बीच रहेगी।

पीएम निर्यात ऋण विकास निर्विक योजना

  • इस योजना से निर्यात में वृद्धि होगी।
  • निर्यात क्षेत्रों में कंपनीयों में प्रतिस्पर्धा में वृद्धि होगी।
  • आसान ऋण और बीमा योजना से व्यापार करने म सुविध होगी।
  • सरकार द्वारा निर्यात प्रोत्साहन से व्यपारी लोग निर्यात क्षेत्र की ओर उन्मुख होंगे।

 Niryat Rin Vikas NIRVIK Yojana 2022: Benefits

  • निर्यात ऋण विकास योजना ECGC प्रक्रियाओं को निर्यात के अनुकूल बना देगी।
  • यह योजना भारतीय निर्यातकों को प्रतिस्पर्धी बनाने में सहायता करेगी।
  • निर्यातकों के लिए ऋण उपलब्धता में वृद्धि करेगी।
  • दावों को तुरंत निपटाने के कारण पूंजीगत राहत, कम प्रावधान की जरुरत और तरलता के कारण बीमा कवर में ऋण की लागत में कमी आने का आसार है।
  • निर्यात ऋण विकास योजना निर्यात क्षेत्र के लिए समय पर और पर्याप्त कार्यशील पूंजी सुनिश्चित करेगा।

पीएम निर्यात ऋण विकास निर्विक योजना के मुख्य विशेषताएँ

  • 80 करोड़ ₹ से कम के सीमा वाले खाते के लिए प्रीमियम दर 0.06% प्रत्येक साल और मद्ध्यम रूप से 80 करोड़ ₹ से अधिक वाले के लिए 0.72%  प्रति वर्ष होगी।
  • बीमा के तहत मूलधन और ब्याज के 90% तक कवर किया जायेगा।
  • बढे हुए कवर से यह सुनिश्चित होगा कि निर्यातकों के लिए विदेशी और रुपये निर्यात ऋण का ब्याज दर 4% से 8% के बीच होगा।
  • निर्यात ऋण विकास योजना के तहत 80 करोड़ ₹ अधिक सीमा वाले उधारकर्ताओ के ऊपर रत्न आभूषण और हीरे (GJD) के क्षेत्र में उच्च हानि दर के कारण इस श्रेणी के Non GJD क्षेत्र की तुलना में अधिक प्रीमियम दर होगी।
  • बीमा कवर में प्री और पोस्ट Shipment Credit दोनों सम्मिलित होंगे।
  • बैंक ECGC को मासिक मूलधन और ब्याज पर एक प्रीमियम का भुगतान करेंगे। क्योंकि क्योंकि दोनों बकायो के लिए कवर की पेशकश की जा रही है।
  • यह ECGC के अधिकारियो के द्वारा बैंक के दस्तावेजों और अभिलेखों के निरीक्षण को वर्तमान में 1 करोड़ ₹ के मुकाबले 10 करोड़ ₹ से अधिक घाटे के लिये जरुरी बनाता है।
  • इस योजना के तहत निर्यातकों को भारतीय मुद्रा में मिलने वाला कर्ज , जो अभी तक 9 से 11 प्रतिशत के बीच मिलता था, वो अब 7.5% की दर से मिलेगा। इसी तरह विदेशी मुद्रा में मिलने वाला कर्ज 4 से 5 फीसदी में मिलने वाला कर्ज अब 3.5% की दर पर दिया जायेगा। सस्ता कर्ज मिलने से निर्यातकों के उत्पादन लागत में कमी आयेगा।
  • निर्यातकों को एक्सपोर्ट क्रेडिट गारण्टी कारपोरेशन ऑफ़ इंफिया द्वारा दिए जाने वाले कर्ज पर इन्शुरन्स की सीमा बढा दिया गया है।
  • एक्सपोर्ट क्रेडिट गारण्टी कारपोरेशन की ओर से इन्शुरन्स सीमा बढ़ाने के बाद बैंकों का भरोसा बढ़ेगा। ऐसे में बैंक आसानी से लोन देने के लिए आगे आएंगे।
  • सस्ते कर्ज से निर्यातकों को अंतर्राष्ट्रीय बाजार में प्रतिस्पर्धा करने में मदद मिलेगी। सरकार के इस योजना से निर्यातकों को करीब 30 लाख ₹ का सहारा मिलेगा। इससे अर्थव्यवस्था में रोजगार और निवेश बढ़ेगा।

Nirvik Yojana के बारे में कुछ और महत्‍वपूर्णं जानकारी

निर्विक योजना के लागू हो जाने के बाद देश की केंद्र सरकार निर्यातकों को बड़ी तादत में बैंक ऋण प्रदान करायेगी। इसके लिये बैंकों को तैयार रहने के लिये बोला गया है।

इस योजना का संचालन निर्यात ऋण गारंटी निगम सभी Small Exporters को निर्यात में हुये घाटे का 60 प्रतिशत तक का बैंक लोन उपलब्‍ध कराता है।

लेकिन नयी योजना के लांच होने के बाद पूरे 100 प्रतिशत का ऋण प्राप्‍त होगा और 90 प्रतिशत ऋण पर बीमा कवर तथा इसके प्रीमियम पर सब्सिडी का प्रावधान किया जा चुका है।

आने वाले कुछ समय में भारतीय निर्यात सेक्‍टर में छोटे निर्यातकों का प्रदर्शन सुधरने की उम्‍मीद व्‍यक्‍त की जा रही है। नयी योजना के तहत इलेक्‍ट्रोनिक्‍स तथा मोबाइल डिवाइसों के निर्मांण संबंधी गतिविधियों में भी तेजी आएगी और उनका समुचित मात्रा में निर्यात भी संभव हो सकेगा।

माना जा रहा है कि केंद्र सरकार निर्यात सेक्‍टर में लगभग 100 करोड़ रूपये से अधिक का निवेश का लक्ष्‍य निर्धारित करने जा रही है। ताकि भारतीय निर्यात पूरी दुनिया के साथ कदम से कदम मिला कर चल सके।

Benefits of Nirvik Insurance Scheme – निर्विक बीमा योजना के लाभ

  • निर्विक योजना के लिये क्‍लेम के निस्‍तारण का System बहुत ही सरल और आसानी से समझ में आने वाला बनाया जा रहा है। इसके लिये बीमा कंपनियों का जरूरी दिशा निर्देश भी जारी किये जा रहे हैं।
  • इस योजना के तहत Indian Exporters के लिये पर्याप्‍त मात्रा में Working Capital की व्‍यवस्‍था की जाएगी त‍था इस पर बीमा कवर प्रदान करके जोखिम को समाप्‍त किया जाएगा।
  • निर्विक योजना को लांच करने का एक महत्‍वपूर्णं मकसद भारतीय निर्यात के क्षेत्र में नये लोगों की इन्‍ट्री कराना है तथा इस क्षेत्र में स्‍वस्‍थ प्रतिस्‍पर्धा का जन्‍म देना है।
  • निर्यात सेक्‍टर के मजबूत होने से देश में नयी नौकरियों का सृजन होगा, जिससे बेरोजगारी की समस्‍या पर भी काबू पाया जा सकेगा।
  • इस योजना के साथ ही E-Market Plus भारतीय निर्यातकों का काम आसान करेगा जिससे निर्यात में वृद्धि दर्ज की जा सकेगी।
  • जब पिछले साल निर्यात ऋण विकास योजना लागू की गयी थी, तो बैंक निर्यातकों को ऋण देने से हिचकते थे। लेकिन अब बैंकों को ऋण पर बीमा कवर की सुरक्षा भी मिल रही है, तो बैंक भी ऋण देने के दायित्‍व से अब पीछे नहीं हटेंगें।
  • Nirvik Insurance Scheme के लांच हो जाने के बाद तरलता के साथ ऋण लागत में भारी कमी दर्ज की जाएगी।
  • इस साल के बजट में भारत सरकार ने एक्‍सपोर्ट सेक्‍टर के लिये लगभग 27,300 करोड़ रूपये की भारी भरकम राशि की व्‍यवस्‍था की हुई है।

निर्विक योजना के मुख्‍य उद्देश्य

  • MSME योजना के तहत ऋण पाने वाले निर्यातकों को ECGC बीमा कवर से बैंकों को ऋण पर सुरक्षा प्रदान किया जाना है।
  • नयी योजना लागू हो जाने के बाद सभी छोटे भारतीय निर्यातकों को लाभ होगा और वह पहले से अधिक मजबूती हासिल करेंगें।
  • ऋण लागत में कमी आने से पूंजीगत निर्यातकों को बड़ी राहत मिलेगी तथा उन्‍हें अपना काम अधिक रूचि कर लगने लगेगा।
  • निर्विक बीमा योजना लागू हो जाने के बाद सभी भारतीय निर्यातकों को अनुकूल व्‍यापारिक माहौल का अहसास होगा और वह अधिक माल निर्यात करने की दिशा में तेजी से काम कर सकेंगें।

Nirvik Yojana Me Avedan Kaise Kare – निर्विक योजना 2022 में आवेदन कैसे होता है?

यदि आप निर्विक योजना का लाभ उठाने के बारे में गंभीरता से सोच रहे हैं, तो आपको How to Apply Online for Nirvik Scheme के पूरे प्रोसेस के बारे में अवश्‍य पता होना चाहिये।

इस योजना में आवेदन कैसे और कब किया जाएगा इस बारे में अभी योजना से संबंधित गाइडलाइन मौजूद नहीं है। इसलिये जब तक गाइडलाइन नहीं आती आपको थोड़ी प्रतीक्षा करनी होगी। जैसे ही आवेदन संबंधी नये नियम सरकार की ओर से जारी किये जाएंगें, हम आपको इसी पोस्‍ट में अपडेटेट जानकारी प्रदान करेंगें। तब तक धैर्य के साथ थोड़ी प्रतीक्षा करें।

Nirvik Yojana से सम्बन्धित सवाल जवाब

Nirvik Yojana क्या है?

यह देश के छोटे निर्यातक के लिए शुरू की गयी एक कल्याणकारी योजना है इस योजना के तहत सभी छोटे निर्यातक को ऋण की रकम का 90% बीमा प्रदान किया जायेगा।

Nirvik Yojana का लाभ किन नागरिको के लिए दिया जायेगा?

Nirvik Yojana का लाभ देश के सभी छोटे निर्यातक को प्रदान किया जायेगा ताकि वह आसानी से लोन लेकर बस्तुओ का निर्यात कर सके.

Nirvik Yojana के तहत लोन का कितना प्रतिशत इन्सुरेंस किया जायेगा?

इस योजना के अंतर्गत प्रदान किये जाने वाले लोन का 90 प्रतिशत इन्सुरेंस कवर प्रदान किया जायेगा।

Nirvik Yojana को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य क्या है?

इस योजना को शुरू करने का एकमात्र उद्देश्य भारतीयों को वस्‍तुओं के निर्यात के लिये प्रोत्‍साहित करके देश के विकास को बढ़ाना है.

Nirvik Yojana कब शुरू की गई?

भारत सरकार द्वारा इस योजना की शुरुआत 01 फरवरी 2020 को की गयी है.

Nirvik Yojana किसके द्वारा शुरू की गयी?

इस योजना की शरुआत भारत देश की वित्‍तमंत्री निर्मला सीता रमण जी के द्वारा की गई है.

पीएम निर्यात ऋण विकास निर्विक योजना के लिए पात्रता मापदंड

Eligibility Criteria for PM Export Credit Development Nirvik Yojana :- 

  • आवेदक भारतीय नागरिक होना चाहिए
  • Applicant के पास अपने बिज़नेस का रजिस्ट्रेशन नंबर होना चाहिए
  • आवेदक के पास अपने सभी दस्तावेज होने चाहिए

पीएम निर्यात ऋण विकास निर्विक योजना के लिए जरुरी दस्तावेज

Document For Niryat Rin Vikas Yojana 2022 :-

  • ID Proof :- Aadhaar Card , Pan Card , Voter Card
  • Address Proof :- Ration Card , Electricity Bill ,
  • Bank Account With Passbook
  • Photograph Email ID , Phone Number ,
  • Business Registration Number

पीएम निर्यात ऋण विकास निर्विक योजना 2022 का उद्देश्य

  • पीएम निर्यात ऋण विकास निर्विक योजना से निर्यात में वृद्धि होगी।
  • इस योजना से निर्यात क्षेत्रों में कंपनीयों में प्रतिस्पर्धा में वृद्धि होगी।
  • एक्सपोर्ट का बिज़नेस करने में आसानी होगी
  • सरकार द्वारा निर्यात प्रोत्साहन को बढ़ावा देने के लिए लोन दिया जायेगा

Leave a Comment

Your email address will not be published.