Deen Dayal Upadhyaya Gram Jyoti Yojana Kya Hai | दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना क्या है

Rate this post

Deen Dayal Upadhyaya Gram Jyoti Yojana Kya Hai

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं सरकार द्वारा गांवों तक बिजली पहुंचाने का काम बहुत तेजी से चल रहा है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार ने दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना आरंभ की है। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से इस योजना से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं। जैसे कि दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना क्या है?, इसका उद्देश्य, लाभ, विशेषताएं, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, आवेदन प्रक्रिया आदि। तो दोस्तों यदि आप Deen Dayal Upadhyaya Gram Jyoti Yojana से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप से निवेदन है कि आप हमारे इस लेख को अंत तक पढ़े।

दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना की शुरुआत केंद्र सरकार के द्वारा की गयी है। इस योजना के अंतर्गत किसान नागरिकों को लाभान्वित किया जायेगा। कृषि क्षेत्र में बेहतर उत्पादन के लिए किसानों को योजना के तहत बिजली जैसी सुविधाएँ प्रदान की जाएगी। यह योजना नवंबर वर्ष 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में शुरू की गयी है। डीडीयूजीजेवाई के माध्यम से किसानों को बिजली आपूर्ति प्रदान की जाएगी। यह योजना केंद्र सरकार की प्रमुख पहल में से महत्वपूर्ण है। यह विद्युत् मंत्रालय का एक कार्यक्रम है जिसमें किसान नागरिकों को बिजली आपूर्ति की सुविधा सुगमता से प्रदान की जाएगी।

ग्रामीण क्षेत्रो में रहने वाले लोग, चाहे वह खेती कर रहे हों या कोई और व्यवसाय; उन सब लोगों के घर तक बिजली पहुंचाने तथा ग्रामीण क्षेत्रों को भी बिजली व्यवस्था पहुंचाने के लिए 25 जुलाई 2015 को देश के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा “प्रधानमंत्री दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना” की शुरुआत की गई। इस योजना का नाम प्रसिद्ध राज्य नेता श्री दर्शन शास्त्री दीनदयाल उपाध्याय जी के नाम पर रखा गया। यह प्रधानमंत्री जी का ड्रीम प्रोजेक्ट है, वे चाहते हैं कि देश के हर ग्रामीण क्षेत्र में बिजली पहुंचाई जाए।

दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना : इस योजना की शुरुआत की घोषणा नवंबर 2014 में की गयी थी। इसके माध्यम से केंद्र सरकार द्वारा देश के उन ग्रामीण क्षेत्रों में विद्युतीकरण किया जाएगा, जहाँ अभी तक बिजली की सुविधा नहीं है। ये योजना मुख्य रूप से ग्रामीण इलाकों के लिए लायी गयी है। जिसका उद्देश्य देश में सभी गाँव का विकास करना है। इस योजना की शुरुआत माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा की गयी है। आज हम आप को इस लेख के माध्यम से दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के बारे में जानकारी देंगे।

साथ ही आप को इस DDUGJY से लाभ, डीडीयूजीजेवाई की विशेषताएं और इसके उदेश्य के बारे में बताएंगे। कृपया दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना क्या है: ऑनलाइन आवेदन, एप्लीकेशन फॉर्म के बारे में विस्तार से जानने के लिए आप इस लेख को पूरा पढ़ें।

आर्टिकलदीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना
योजना की शुरुआतप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा
योजना की घोषणानवंबर 2014
लाभार्थीदेश के ग्रामीण क्षेत्र
उद्देश्यबिजली की सुविधा प्रदान करना
वर्ष2022
योजना श्रेणीकेंद्र सरकार श्रेणी
आधिकारिक वेबसाइटwww.india.gov.in

प्रधानमंत्री दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना 2022 का उद्देश्य

इस योजना को शुरू करने का उद्देश्य यह है कि देश के हर क्षेत्र में बिजली सुविधा उपलब्ध करवाई जाए। देश का कोई भी नागरिक बिजली से वंचित न रह जाए, खासकर के ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले परिवार बिजली सुविधा प्राप्त कर पाएं; यही सोचते हुए इस योजना को लागू किया गया है।

DDUGJY से होने वाले लाभ

  • सरकार द्वारा योजना डीडीयूजीजेवाई  के अंतर्गत देश के सभी ग्रामीण क्षेत्रों में निरंतर विद्युत् सप्लाई की व्यवस्था की जाएगी।
  • ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोगों का मुख्य काम कृषि से जुड़ा है। इस योजना के माध्यम से सबसे ज्यादा कृषि कार्यों के लिए सहायता मिलेगी।
  • बिजली से चले वाली नई तकनीकों के इस्तेमाल से फसल की उत्पादकता बढ़ेगी।
  • ग्रामीण इलाकों में मुख्या आय का स्रोत कृषि है जिस से कृषि अच्छी होने से सभी किसानों की आय भी बढ़ेगी।
  • स्वास्थ्य , बैंकिंग और शिक्षा आदि क्षेत्रों में भी विकास और बढ़ोतरी होगी। जिस का फायदा जनता को मिलेगा।
  • बिजली आने से ग्रामीण इलाकों में भी इंटरनेट , रेडियो , टेलीविज़न आदि सुविधाएं बढ़ेंगी। जिस से लोग देश विदेश में चल रही सभी घटनाओं के बारे में जारी प्राप्त कर सकेंगे।
  • अब पलायन की समस्या भी कम होगी। ऐसा इसलिए क्यूंकि बिजली आने से न सिर्फ सुविधाएं बढ़ेंगी बल्कि रोजगार के बहुत से अवसर भी खुलेंगे।

डीडीयूजीजेवाई (DDUGJY) की विशेषताएं

  • राजीव गाँधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना RGGVY को डीडीयूजीजेवाई में समाहित किया गया है।
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा नवंबर 2014 में इस योजना की घोषणा की गयी।
  • DDUGJY के अंतर्गत योजना के कार्यान्वयन के लिए केंद्र सरकार के द्वारा 43,033 करोड़ रूपए का बजट निर्धारित किया गया है।
  • देश के उन सभी ग्रामीण इलाकों एवं किसान नागरिकों के खेतों में विद्युतीकरण पहुंचाने का सभी कार्य ग्रामीण विद्युतीकरण निगम लिमिटेड (आरईसी) नोडल एजेंसी के माध्यम से किया जायेगा।

DDUGJY बजट राशि विवरण

केंद्र सरकार की ओर से योजना के सफल कार्यान्वयन हेतु 43,033 करोड़ रूपए का निवेश किया गया है। जिसमें कार्यान्वयन की अवधि में भारत सरकार से 33,453 करोड़ रुपये के बजटीय सपोर्ट की जरूरत शामिल है। इस योजना को संचालित ग्रामीण विद्युतीकरण निगम लिमिटेड (REC) नोडल एजेंसी के माध्यम से किया जायेगा। डीडीयूजीजेवाई के माध्यम से निजी डिस्कॉम एवं राज्य के विद्युत् विभागों सहित सभी डिस्कॉम वित्तीय सहायता राशि लेने के पात्र है। वितरण ग्रामीण बुनियादी ढांचे को मजबूत बनाने के लिए विशेष नेटवर्क की जरूरत को अग्रता देंगे। और इसके साथ ही यह कवरेज हेतु प्रॉजेक्ट की विशेष परियोजना रिपोर्ट DPR तैयार करने में सहयोग करेंगे। यह विद्युत् मंत्रालय और केंद्रीय विद्युत ऑथोरिटी को DDUGJY के निष्पादन पर वित्तीय और फिज़िकल दोनों उन्नति को दर्शाते हुए monthly progress Report उपस्थित करेगा।

दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना कार्यान्वयन की विधि

डीडीयूजीजेवाई योजना को केंद्र सरकार के द्वारा टर्नकी आधार पर लागू किया जायेगा। open competitor बोली प्रोसेस के नीतिपूर्वक तय मूल्य के बेस पर (बदलाव के लिए प्रावधान के बिना) टर्नकी कॉन्ट्रैक्ट प्रदान किया जायेगा। मॉनिटरिंग कमेटी के माध्यम से अप्रूवल की आदेशों के तीन महीने के अंदर प्रॉजेक्ट को सम्मानित किया जायेगा। गैरमामूली परिस्थितियों में मॉनिटरिंग कमेटी के अप्रूवल के साथ आंशिक टर्नकी डिपार्टमेंट बेस पर कार्यान्वयन की अनुमति दी जाएगी। इसके साथ ही कार्यान्वयन की अवधि योजना के अंतर्गत परियोजना के कार्य पत्र जारी होने की तिथि से 2 वर्ष की अवधि के अंदर पूर्ण कर लिया जायेगा।

डीडीयूजीजेवाई की आवेदन की प्रक्रिया

Deen Dayal Upadhyaya Gram Jyoti Yojana के अंतर्गत आप को अलग से आवेदन करने की आवश्यकता नहीं है। केंद्र सरकार द्वारा सभी ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली पहुंचाने के लिए प्रयास जारी हैं। जैसे की आप जानते हैं की इस के लिए सरकार ने ग्रामीण विद्युतीकरण निगम लिमिटेड नाम से एक नोडल एजेंसी को नियुक्त किया हैं जो सभी ग्रामीण क्षेत्रों की सूची बनाएगी। जहाँ बिजली पहुचानी है। सूची तैयार होते ही उन ग्रामीण क्षेत्रों का विद्युतीकरण कर दिया जाएगा।

दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना निगरानी समिति

इस योजना के अंतर्गत ऊर्जा सचिव की अध्यक्षता में निगरानी समिति का गठन किया जाएगा। यह समिति इस योजना के अंतर्गत परियोजनाओं को स्वीकृति देगी तथा इसे लागू करेगी। इस Deen Dayal Upadhyaya Gram Jyoti Yojana के अंतर्गत एक एग्रीमेंट विद्युत मंत्रालय, डिस्कॉम तथा राज्य सरकार के बीच साइन किया जाएगा जिसके अंतर्गत इस योजना के दिशा निर्देश होंगे। इसी के साथ इस योजना के लिए नोडल एजेंसी ग्रामीण विद्युतीकरण निगम लिमिटेड होगी।

योजना के अंतर्गत वित्त पोषण तंत्र

इस योजना के अंतर्गत पूर्वोत्तर के राज्य जैसे हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, जम्मू, कश्मीर, सिक्किम को विशेष राज्यों की केटेगिरी में दर्ज किया गया है। जिसमें विशेष राज्यों की श्रेणी में आने वाले और अन्य राज्यों के लिए 60 प्रतिशत और विशेष श्रेणी में आने वाले राज्यों के लिए 85 प्रतिशत अनुदान भाग तय किया गया है। यदि राज्य सरकारें अपने ग्रामीण इलाकों में अधिक अनुदान चाहती हैं या कोई भी नुक्सान होता है तो उसके लिए राज्य सरकार द्वारा सब्सिडी प्रदान की जाएगी।

नोट– उम्मीदवार ध्यान दें आपको इस योजना में किसी भी मोड़ में आवेदन करने की आवश्यकता नहीं है। क्योंकि केंद्र सरकार द्वारा विद्युत मंत्रालय के साथ मिलकर इस योजना को चलाने के लिए ग्रामीण विद्युतीकरण निगम लिमिटेड को नोडल एजेंसी नियुक्त किया है। जिनके माध्यम से उन सभी गांवों की सूची बनाई जायेगी जहां बिजली नहीं है और वहां तक इसी नोडल एजेंसी के द्वारा विद्युत पहुंचाई जायेगी।

Tag : Deen Dayal Upadhyaya Gram Jyoti Yojana Launch Date, Deen Dayal Upadhyaya Gram Jyoti Yojana Drishti Ias, राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना, दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना की शुरुआत कब हुई, दीनदयाल ग्रामीण विद्युतीकरण योजना, दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना Drishti, दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना 2022, दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना Rajasthan.

Leave a Comment

Your email address will not be published.